Skip to main content

पांवटा दून के आराध्य हैं पातलियों महादेव

गोपाल दिलैक

पांवटा दून से अंबाला-देहरादून राष्ट्रीय उच्च मार्ग पर बात्ता मण्डी के समीप भूमध्य रेखा से  30°26'14.5"उत्तर 77°33'54.5"पूर्व पर स्थित समुद्रतल से लगभग 398 मीटर की ऊंचाई पर पातलियों महादेव का मंदिर पातलियों में स्थित है। यह मंदिर साल के वृक्षों से घिरा है। इस मंदिर का निर्माण आधुनिक ढंग की निर्माण सामग्री कंकरीट के साथ हुआ है। यह मंदिर निम्न शिवालिक पर्वत श्रेणी के दूरस्थ छोर पर है। यहां समस्त भूभाग शैव अध्ष्ठित प्रतीत होता है।

इस मंदिर के प्रधान अराध्य देव लिंग स्वरूप शिव हैं। यह शिवलिंग पृथ्वी के संसर्ग से स्थापित होने के फलस्वरूप इसकी व्युत्पत्ति लोक से बताई गई है। धरती के मूल से व्युत्पन्‍न इस शिवलिंग की अनुमानित लम्बाई 10 फीट तथा गोलाई 10-12 फीट के आसपास है। इस शिवलिंग को अलौकिक शक्ति के चमत्कार की रचना कहा जा सकती है। यद्यपि इस पार्थिक शिवलिंग का तमन्मय होकर ध्यान किया जाये तो ज्ञात होता है कि यह वर्ष भर में अनेक रूप बदलता है।

यह प्रस्तर शिवलिंग भूलत से उठकर एक समान गोलाई में दिखाई पड़ता है जबकि शिखर अधिक मोटाई में दिखाई देता है। यह शिवलिंग वास्तव में दैविक लीलाओं का साक्षात प्रतिबिम्ब है। इस मंदिर के चारों ओर फैला साल का वन भी महादेव जंगल के नाम से प्रसिद्ध है।

इस शिवलिंग के सम्बन्ध में जनमानस में अनेक दंत कथायें प्रचलित हैं । एक शास्त्रोक्त वार्ता के अनुसार एक बार लंकाधिपति रावण मनोरथ सिद्धि की लालसा से कठोर शिव तपस्या में लीन हो गया। तपस्या करते-करते काफी वर्ष बीत गये। लेकिन शिव कृपा निधान न हुये। दसशिर रावण ने शिवत्त प्राप्त करने के लिये घोर तप किया लेकिन वह शिव को रिझाने में सफल न हो सका। जब रावण को शिव दर्शन न हुये तो उसने हिमालय की कन्दरा में हवन कुण्ड बनाकर अग्नि स्थापित कर दी। यहां सतत्‌ भक्ति में लीन रावण ने एक के बाद एक अपना सिर शिव के चरणों में

बलि चढ़ाया। जब रावण का आखिरी सिर शेष रहा तो भक्त वत्सल शिव उसकी अगाध तपस्या को देखकर उसके समक्ष प्रकट हुये । शिव शंकर ने शैव माया के बल से रावण के दसों सिर प्रुर्नीवित कर उसे अतुलित बलधाम और लंका में शिवलिंग स्थापना का वर दिया। शिवलिंग इस शर्त के साथ दिया कि वह इसे धरती पर नहीं रखेगा। 

देवेश्वर शिव यह वर देकर चिंतित हुये कि ऐसा करने पर वह राक्षस सृष्टि से देवताओं का संहार कर राक्षसी साम्राज्य स्थापित करेगा। हिमालय पर्वत से लंका की ओर आकाश मार्ग से जाते रावण को शिव माया से मूत्रोत्सर्ग की इच्छा हुई। उसने जंगल में एक ग्वाले को देखकर शिवलिंग उसके हार्थों में ढे दिया । वह ग्वाला शिवलिंग के भार से थक गया तथा उसने शिवलिंग पृथ्वी पर रख दिया। वहीं से शिवलिंग पाताल में अस्त हो गया। इस पर रावण व्यथित होकर कैलाश पर्वत को उखाड़ने लगा ऐसा करने पर शिव ने रावण को शाप दिया। 

कालान्तर में पातालियों के वन में शिव की इन चमत्कारिक लीलाओं का पदार्पण माना जाता है। संभवतः इसी कारण इस जंगल का नामकरण महादेव वन हुआ प्रतीत होता है। पाताल में लुप्त शिवलिंग का जब इस धरती पर प्रादुर्भाव हुआ तो इस स्थान को पातलियों कहा जाने लगा तथा शिवलिंग पातलियों महादेव के नाम से पुकारा गया। 

यह भी जनश्रुति है कि भस्मासुर नामक राक्षस ने शिव की घोर तपस्या करने पर शिव से भस्म कंगन हासिल किया था। वह राक्षस उस कंगल से सृष्टि को भस्म करने लगा। शिव द्वारा प्रदत्त वर का प्रयोग राक्षस शिव पर ही करने लगा। पृथ्वी पर साम्राज्य स्थापित करने की इच्छा से वह शिव का पीछा करता रहा। इस अनिष्ट से बचने के लिये शिव पाताल में समा गये। भस्मासुर को शाप दिया तथा भस्मासुर को भगवती दुर्गा ने धरती पर से मिटा ढिया। देवताओं की स्तुति पर शिव का पाताल लोक से आविर्भाव हुआ।

पौराणिक आख्यानों में भी यह वर्णन मिलता है कि जहां यमुना पहाड़ों से मैदानों में गिरती है वहां देवाधिदेव महादेव सदैव समीप रहते हैं। पुराणों में यह भी उल्लेख है कि तमसा (तौंस) नदी के समीपवर्ती क्षेत्र को शिवधाम के नाम से पुकारते हैं। यहां लोक आस्था है कि महादेव वन में यह शिवलिंग आदिकाल से है।

यहां मंदिर बनने से पहले ग्रामवासी लिंग के चारों ओर बैठकर भजन कीर्तन करते थे। इस मंदिर में लगभग सन्‌ 947-48 ई. के आसपास बाबा नागर ने रहना आरम्भ किया । यह बाबा शिवलिंग पूजा व स्नान के लिये साधकुंडी से जल लाते थे। इस बाराहमासी जल-स्रोत के इर्द- गिर्द साधु-संत तपस्या करते दिखाई देते हैं। बाबा नागर 18 वर्ष के पश्चात इस शिवधाम को छोड़कर कहीं और आश्रम में चले गये | यहां फिर सन्‌ 972 ई, में बाबा हरिनाथ अघोरी यहां सात वर्ष काटकर गये। इसके बाद सन्‌ 979 ई. में बीस वर्षों तक बाबा भूतनाथ जी शिव मंदिर पातलियों में रहे | यहां साधु-संतों का लगातार आना- जाना मंदिर में व्युत्पन्न शिवलिंग के अलौकिक महत्व को दर्शाता है।

यहां हर वर्ष शिवरात्रि का मेला धूमधाम से मनाया जाता है। इस मेले के लिये श्रद्धालुओं का अपार सैलाब उमड़ पड़ता है। यहां शिव मंदिर के अतिरिक्त वट वृक्ष की ओट में सैयद पीर के नाम पर श्रद्धालु शीश नवाते हैं। इस मंदिर के एक छोर पर बाबा बालक नाथ की गुफा है। इस मंदिर तक पहुंचने के लिये पांवटा नगर की बात्ता मंडी से ऊपर की ओर 2 किलोमीटर कच्ची सड़क है। 

Comments

Popular posts from this blog

विलुप्त होती कला को बचाने की चुनौती

विलुप्त होती कला को बचाने की चुनौती अमरेन्द्र सुमन, चरखा फीचर, दुमका, झारखंड।  बड़े पैमाने पर आर्टिफिशियल (प्लास्टिक, फाइबर व अन्य मिश्रित धातुओं से निर्मित) वस्तुओं का उत्पादन और घर घर तक इनकी पहुँच से जहाँ एक ओर कुम्हार (प्रजापति) समुदाय के पुश्तैनी कारोबार को पिछले कुछ वर्षों से भारी क्षति का सामना करना पड़ा है, वहीं दूसरी ओर चीन निर्मित वस्तुओं का आयात और बड़े पैमाने पर भारत के बाजारों में उनका व्यवसाय भी उनके आर्थिक पिछड़ेपन का एक प्रमुख कारण रहा हैं। गरीबी, अशिक्षा, आर्थिक पिछड़ेपन, सामाजिक तथा राजनीतिक स्तर पर उपेक्षित जीवन, रुग्न मानसिकता, माटी कला बोर्ड की स्थापना का न होना, काम के प्रति अनिच्छा, महंगाई, हाथ निर्मित वस्तुओं की मांग में भारी कमी, उन्नत शिल्प का अभाव और तकनीकी शिक्षा की कमी उन्हें उनके पुश्तैनी पेशे से दूर करता रहा है।  पहले जिस तरह कुम्हार समुदायों में दुर्गापूजा, दीपावली और छठ जैसे व्रतों में मिट्टी से निर्मित वस्तुओं के निर्माण की जो तत्परता और खुशी दिखाई पड़ती थी, अब उसमें आसमान-जमीन का अंतर हो चुका है। सामान बनाने के अनुकूल मिट्टी की कमी, कच्ची मिट्टी की वस्तुओं

शोधकर्ताओं ने विकसित किया वाष्पीकरण मापने का बेहतर यंत्र

नई दिल्ली, 04 दिसंबर (इंडिया साइंस वायर): बेंगलुरु स्थित भारतीय विज्ञान संस्थान के वैज्ञानिकों ने एक नया उपकरण विकसित किया है, जो किसी क्षेत्र में वाष्पीकरण की दर को कुछ ही क्षणों में सरल और सटीक ढंग से माप सकता है। यह नया यंत्र पौधों से वाष्पोत्सर्जन और मिट्टी से वाष्पीकरण की बेहतर माप प्राप्त करने में प्रभावी पाया गया है। वैज्ञानिकों का कहना है कि नया उपकरण वाष्पीकरण मापने के उपलब्ध तरीकों की तुलना में कहीं अधिक सक्षम और सस्ता विकल्प है। भारतीय विज्ञान संस्थान के मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग के वरिष्ठ शोधकर्ता प्रोफेसर जयवंत एच. अरकेरी ने बताया कि "वाष्पीकरण दर मापने के लिए आमतौर पर पात्र वाष्पन मीटर (Pan Evaporimeter) का उपयोग होता है। यह एक बड़े पात्र के आकार में होता है, जो पानी से भरा रहता है। एक दिन के दौरान पात्र में भरे पानी के स्तर में बदलाव उस क्षेत्र में वाष्पीकरण की दर को दर्शाता है। मौजूदा तरीकों की एक खामी यह है कि इससे पूरे दिन और बड़े क्षेत्र (1 वर्ग मीटर) में वाष्पीकरण की दर पता चल पाती है। इसके अलावा, उपकरण लगाने के लिए खुले मैदान की जरूरत होती है। लेकिन, हमने एक

लघु उद्योग बदल सकते है पहाड़ी गांवों का स्वरूप

नैनीताल, उत्तराखंड नरेन्द्र सिंह बिष्ट संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) द्वारा प्रकाशित नवीनतम मानव विकास रिपोर्ट के अनुसार उत्तराखण्ड में बेरोज़गारी दर 2004-2005 में 2.1 प्रतिशत से बढ़कर 2017-2018 में 4.2 प्रतिशत थी जो राज्य सरकार के लिए चिन्ता का विषय है। विशेषज्ञों का भी मानना है कि उच्च बेरोज़गारी दर के पीछे सरकारी व निजी क्षेत्रों में रोज़गार के पर्याप्त अवसर पैदा करने में राज्य की अक्षमता है। रिपोर्ट यह भी बता रही है कि 2004-2005 से 2017-2018 तक युवाओं के बीच बेरोज़गारी की दर 6 प्रतिशत से बढ़कर 13.2 प्रतिशत हो गई। शिक्षित युवाओं (माध्यमिक स्तर से ऊपर) के बीच बेरोज़गारी दर सबसे अधिक 17.4 प्रतिशत है। उत्तराखण्ड बेरोज़गारी मंच के राज्य प्रमुख सचिन थपलियाल ने बताया गया कि राज्य में नौ लाख से अधिक पंजीकृत बेरोजगार युवा हैं। सरकारें बड़े उद्योग एवं रोजगारों को राज्य में लाने में विफल रही है। वही ग्रामीण समुदाय अपने स्तर पर लद्यु उद्योगों के माध्यम से अपनी आजीविका संवर्धन कर रही है। इस ओर सरकार व निजी कंपनियों को कार्य करने की आवश्यकता है। जिससे ग्राम स्तर पर रोज़गार के साथ साथ पहाड़ी