Skip to main content

उत्तराखंड की राजनीति में एक और जनरल का उदय

गुणानंद जाखमोला, उत्तरजन टुडे, देहरादून।

दो पूर्व जनरलों मेजर जनरल बीसी खंडूड़ी और ले. जनरल टीपीएस रावत ने उत्तराखंड की राजनीति में एक मुकाम हासिल किया। दोनों ही जनरल भले ही आज राजनीति में हाशिए पर हैं, लेकिन दोनों का अपना रुतबा रहा है। राजनीतिक कीचड़ में दामन झुलसा लेकिन अपनी प्रतिष्ठा बचाने में कामयाब रहे। दोनों ही जनरलों को ईमानदार माना जाता है। पहाड़ के युवाओं को रोजगार देने में जनरल टीपीएस रावत का कोई सानी नहीं है। उनको पहाड़ के युवा आज भी याद करते हैं। जनरल खंडूड़ी ने राजनीतिक शुचिता को बनाए रखा, हालांकि सारंगी ने उनकी इस छवि की पीपरी बजा दी। 

आप के प्रदेश उपाध्यक्ष बने मेजर जनरल डा. सीके जखमोला

गेस्ट्रो सर्जन करेंगे प्रदेश के राजनीतिक कैंसर का इलाज!

ऐसे समय में जब भाजपा और कांग्रेस के दोनों दिग्गज जनरल जीवन की सांध्यबेला में अकेलेपन का शिकार हैं, उत्तराखंड की राजनीति में एक नये जनरल का प्रादुर्भाव हुआ है। ये हैं पूर्व मेजर जनरल डा. चंद्र किशोर जखमोला। आम्र्ड फोर्सेज मेडिकल सर्विस से सेवानिवृत्त हुए हैं। जनरल डा. जखमोला जर्नल सर्जन हैं और गेस्ट्रो में पारंगता है। यानी कैंसर का इलाज भी करते हैं। वे आरआर, एम्स दिल्ली में भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं। उन्होंने सेना के विभिन्न अस्पतालों में विभिन्न पदों पर काम किया। वे भारतीय सेना के पहले ऐसे सर्जन हैं जिन्होंने सेना अस्पतालों में एडवांस लेप्रोस्कोपिक ओंको जीआई सर्जनी और लेप्रोस्कोपिक हर्निया सर्जरी की शुरूआत की। 

जनरल डा. जखमोला ने परम्परागत भाजपा और कांग्रेस से अलग हटकर आम आदमी पार्टी को चुना। आप का अभी प्रदेश में कोई प्रभाव नहीं है। महज खानापूर्ति वाली पार्टी मानी जा रही है। इसके बावजूद जनरल जखमोला का आप को ज्वाइन करना चुनौती से कम नहंी है। आप के ही नेता मानते हैं कि वे बहुत व्यस्त रहते हैं तो क्या राजनीति में समय दे पाएंगे?  सवाल उठ रहे हैं कि जनरल जखमोला क्या दो पूर्व जनरलों के राजनीति विरासत को बचाने में कामयाब हो पाएंगे या उन्हें प्रदेश के पूर्व सैनिक, सैनिक और आम लोग उसी तर्ज पर अपनाएंगे जैसे जनरल खंडूड़ी और जनरल रावत को अपनाया? 

जनरल डा. जखमोला को उत्तराखंड का जनमानस कितना महत्व देगा यह तो समय ही बताएगा, लेकिन इतना जरूर है कि दो जनरलों की सक्रिय राजनीति से विदाई से जो गैप नजर आ रहा था, निश्चित तौर पर जनरल जखमोला के राजनीति में आने से वह गैप कुछ तो कम जरूर हुआ है। सैनिक बहुल प्रदेश में सैनिकों और पूर्व सैनिकों को महज वोट बैंक ही समझा जाता है, उनको राजनीतिक अधिकार और सम्मान देने से भाजपा और कांग्रेस समान दूरी बनाए रखते हैं। ऐसे में जनरल जखमोला पर अब पूर्व सैनिकों और सैनिकों की नजर होगी। उत्तराखंड में जोर-अजमाइश में जुटी आम आदमी पार्टी ने यह एक अच्छा प्रयोग किया है।

Comments

Popular posts from this blog

विलुप्त होती कला को बचाने की चुनौती

विलुप्त होती कला को बचाने की चुनौती अमरेन्द्र सुमन, चरखा फीचर, दुमका, झारखंड।  बड़े पैमाने पर आर्टिफिशियल (प्लास्टिक, फाइबर व अन्य मिश्रित धातुओं से निर्मित) वस्तुओं का उत्पादन और घर घर तक इनकी पहुँच से जहाँ एक ओर कुम्हार (प्रजापति) समुदाय के पुश्तैनी कारोबार को पिछले कुछ वर्षों से भारी क्षति का सामना करना पड़ा है, वहीं दूसरी ओर चीन निर्मित वस्तुओं का आयात और बड़े पैमाने पर भारत के बाजारों में उनका व्यवसाय भी उनके आर्थिक पिछड़ेपन का एक प्रमुख कारण रहा हैं। गरीबी, अशिक्षा, आर्थिक पिछड़ेपन, सामाजिक तथा राजनीतिक स्तर पर उपेक्षित जीवन, रुग्न मानसिकता, माटी कला बोर्ड की स्थापना का न होना, काम के प्रति अनिच्छा, महंगाई, हाथ निर्मित वस्तुओं की मांग में भारी कमी, उन्नत शिल्प का अभाव और तकनीकी शिक्षा की कमी उन्हें उनके पुश्तैनी पेशे से दूर करता रहा है।  पहले जिस तरह कुम्हार समुदायों में दुर्गापूजा, दीपावली और छठ जैसे व्रतों में मिट्टी से निर्मित वस्तुओं के निर्माण की जो तत्परता और खुशी दिखाई पड़ती थी, अब उसमें आसमान-जमीन का अंतर हो चुका है। सामान बनाने के अनुकूल मिट्टी की कमी, कच्ची मिट्टी की वस्तुओं

अस्पताल है, मगर डॉक्टर नहीं

फूलदेव पटेल मुज़फ़्फ़रपुर, बिहार पूरे देश में सरकारी अस्पताल की स्थिति किसी से छुपी नहीं है। आये दिन अस्पताल और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की बदहाली व आरजकता की ख़बरें अखबार की सुर्खियों में रहती है। उप्र, झारखंड, बिहार समेत कई राज्यों में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों का बुरा हाल है, तो दूसरी ओर इन्हीं क्षेत्रों में निजी अस्पतालों की चांदी है। सरकारी डाक्टर प्राइवेट क्लीनिक खोलकर अपनी दुकान चमकाने में मुस्तैद हैं। हैरानी की बात यह है कि सरकारी अस्पताल की चहारदीवारी से लेकर मेन गेट पर भले ही नारे लिखे बड़े-बड़े होर्डिंग व पोस्टर लगे होते हों, लेकिन अंदर स्वास्थ्य सेवा के नाम पर अनमने ढंग से मरीजों का इलाज किया जाता है। डॉक्टर से लेकर सफाई कर्मचारी तक की कोशिश होती है कि मरीज उनके कमीशन प्राप्त प्राइवेट अस्पताल चला जाये। यह स्थिती केवल शहरों की ही नहीं है बल्कि प्रखंड स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में बैठने वाले डाक्टर भी अपना निजी क्लीनिक चलाने में मशगूल रहते हैं। अस्पताल प्रशासन की लापरवाहीए बदइंतजामी और कुव्यवस्था के कारण गरीब मरीज़ भी निजी क्लीनिक में इलाज कराने को मजबूर हो जाते हैं। देश म

लघु उद्योग बदल सकते है पहाड़ी गांवों का स्वरूप

नैनीताल, उत्तराखंड नरेन्द्र सिंह बिष्ट संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) द्वारा प्रकाशित नवीनतम मानव विकास रिपोर्ट के अनुसार उत्तराखण्ड में बेरोज़गारी दर 2004-2005 में 2.1 प्रतिशत से बढ़कर 2017-2018 में 4.2 प्रतिशत थी जो राज्य सरकार के लिए चिन्ता का विषय है। विशेषज्ञों का भी मानना है कि उच्च बेरोज़गारी दर के पीछे सरकारी व निजी क्षेत्रों में रोज़गार के पर्याप्त अवसर पैदा करने में राज्य की अक्षमता है। रिपोर्ट यह भी बता रही है कि 2004-2005 से 2017-2018 तक युवाओं के बीच बेरोज़गारी की दर 6 प्रतिशत से बढ़कर 13.2 प्रतिशत हो गई। शिक्षित युवाओं (माध्यमिक स्तर से ऊपर) के बीच बेरोज़गारी दर सबसे अधिक 17.4 प्रतिशत है। उत्तराखण्ड बेरोज़गारी मंच के राज्य प्रमुख सचिन थपलियाल ने बताया गया कि राज्य में नौ लाख से अधिक पंजीकृत बेरोजगार युवा हैं। सरकारें बड़े उद्योग एवं रोजगारों को राज्य में लाने में विफल रही है। वही ग्रामीण समुदाय अपने स्तर पर लद्यु उद्योगों के माध्यम से अपनी आजीविका संवर्धन कर रही है। इस ओर सरकार व निजी कंपनियों को कार्य करने की आवश्यकता है। जिससे ग्राम स्तर पर रोज़गार के साथ साथ पहाड़ी