Skip to main content

फसल ख़राबी से किसान हैं परेशान

श्रवण हुर्रा

कांकेर, छत्तीसगढ़। नए कृषि कानूनों के खिलाफ देशभर में किसानों के साथ सामाजिक संगठनों से लेकर बड़े बड़े राजनीतिक दल विरोध दर्ज करा रहे हैं। वहीं किसान सड़कों पर उतर कर इस बिल को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। लेकिन इन सबके बीच छत्तीसगढ़ के ग्रामीण क्षेत्रों में किसान अपनी खड़ी फसलों को कीट पतंगों की प्रकोप से बचाने की जद्दोजहद में लगे हुए हैं। मौसम की बेरुखी की मार एक बार फिर किसानों पर ही पड़ी हैं। जिसका ख़ामियाज़ा उन्हें पकने की कगार पर पहुंची फसलों पर कीट प्रकोप के रूप में हो रहा है।

कृषि विभाग के अनुसार छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले की लगभग 10 प्रतिशत फसलों में कीटों का प्रकोप देखा जा रहा है। जिला मुख्यालय कांकेर से लगभग 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित भानुप्रतापपुर ब्लाॅक के ग्राम घोठा के किसान कीटों के कारण अपनी तैयार फसलों को बर्बाद होते देख चिंतित हैं। लगभग 1500 की आबादी वाले इस गांव के लोग कृषि पर ही निर्भर हैं। खेतों में बुआई के समय मौसम की पर्याप्त पानी मिलने से किसानों ने अच्छी पैदावार का अनुमान लगाया था। शुरूआत के कुछ समय मौसम भी कृषि के अनुकूल रहा। लेकिन अगस्त, सितंबर में अच्छी बारिश के बाद अक्टूबर में हो रही बारिश और तेज धूप तथा उमस से फसलों पर कीटों का हमला हो गया है, जिससे धान की खड़ी फसल खराब होने लगी है। फसलों पर तनाछेदक, ब्लाष्ट, भूरा माहो जैसे कई प्रकार की बिमारियों से किसान परेशान हैं। हालांकि इन फसलों को बचाने के लिए अलग-अलग तरह की दवाइयों का छिड़काव भी किया जा रहा है। बावजूद इसके उन्हें राहत मिलती नजर नहीं आ रही है।

गांव के ज्यादातर किसान ग़रीब होने के कारण हर वर्ष कर्ज लेकर खेती करते हैं और फिर फसल बेचकर जो कमाई होती है उससे अपना कर्ज चुकाते हैं। लेकिन इस वर्ष किसानों के सामने कम उत्पादन के साथ ही कर्ज चुकाने की भी समस्या उत्पन्न हो गई है। गांव के बडे़ किसान जो ज्यादा क्षेत्र में खेती करते हैं, उनके लिए इस नुकसान की भरपाई करना संभव है। लेकिन वह किसान जो कम क्षेत्र में खेती करके अपना परिवार चलाते हैं उनके सामने सबसे बड़ी समस्या उत्पन्न हो गई है। किसानों ने बताया कि बारिश व बदली से धान की खेतों में कीट का प्रकोप बढ़ गया है। पहले बारिश न होने से धान की खेती प्रभावित हुई और फिर देर से बुआई होने से खेती का काम पिछड़ता गया। सावन में हुई बारिश से ही थोड़ी राहत मिली। निराई के बाद धान के बड़े होते लहलहाते पौधे देखकर किसान प्रफुल्लित हो रहे थे कि अब खेतों में कीट के प्रकोप ने चिंता बढ़ा दी है।

अक्टूबर की शुरूआत से लगातार बारिश होने व बादल छाए रहने से धान के पौधों को धूप नहीं मिल रही है। खेतों में पानी भरे होने से बीमारी और कीट प्रकोप का हमला अचानक हो गया है। धूप नहीं निकलने से धान के खेतों में तनाछेदक, ब्लास्ट और ऊपरी हिस्सा सूखने की बीमारी शुरू हो गई है। तना छेदक में कीट धान के पौधों के बीच में उत्पन्न होकर पौधे के तने को निशाना बनाते हैं, उसे छेदकर पौधे को ही नष्ट कर देते हैं। पत्ती मोड़क कीट प्रकोप से पत्तियां सफेद धारीदार हो जाती हैं, कीट अन्य पत्तियों को चिपकाकर खोल बना कर रहता है तथा पत्ती के हरे भाग को खाकर उसे नष्ट कर देता है। 60 हजार रूपए कर्ज लेकर खेती करने वाले गांव के एक किसान चैतूराम उइके का कहना है कि शुरूआत में बारिश समय पर नहीं होने से रोपाई कार्य सही तरीके से नहीं कर पाया। अब फसल पकने को है तो बेमौसम हो रही बारिश से फसलों पर कीट लग गए हैं। इससे फसल को भारी नुकसान हो रहा है। बर्बाद फसल को देखकर लग रहा है कि इस वर्ष कर्ज चुकाना तो दूर घर का खर्च चलाना भी मुश्किल हो जायेगा। वहीं एक अन्य महिला किसान गंगाबाई चक्रधारी के अनुसार कीटों के लगने से उनके खेत की फसल भी पूरी तरह से खराब हो रही है। उन्हें इस बात की चिंता है कि खेती के लिए लिया गया 35 हजार रूपए का कर्ज वह किस प्रकार चुका पाएंगी? उन्होंने कहा कि इस साल हमारी फसल पिछले वर्ष की तुलना में काफी कम होगी। इसलिए इस वर्ष की बजाय अब मैं अगले वर्ष ही ब्याज सहित कर्ज चुकाउंगी।

गांव के ही एक अन्य किसान अंकालराम हुर्रा कहते हैं खेती के लिए मैंने 30 हजार रूपए कर्ज लिया है। पहले सोचा था कि फसल अच्छी होगी तो साल भर के अंदर क़र्ज़ चुका दूंगा। लेकिन मेरे खेतों में 40 से 50 प्रतिशत फसल का नुकसान हुआ है। तो जितना कर्ज लिया हूं उतना शायद पैदावार भी नहीं होगा। मुझे बाकी कर्ज मजदूरी करके ही चुकानी होगी। फसल बीमा से भी कोई उम्मीद नहीं किया जा सकता क्योंकि यहां 2016 का तो बीमा की रक़म अभी तक नहीं मिली है। किसान फगनूराम के अनुसार हम सब अपनी पूरी कमाई व जमा पूंजी धान फसल पर लगा चुके हैं। जब फसल तैयार होने की स्थिति में है, तो कीट प्रकोप एवं विभिन्न प्रकार की बीमारियां होने से हम सभी चिंतित है। कीटनाशक छिड़काव के बाद भी बीमारी से धान फसल को राहत नहीं मिली है, इसका सीधा असर उसकी उत्पादकता पर पड़ेगा।

वहीं गांव के सरंपच राम प्रसाद कावडे़ का कहना है कि कृषि विभाग से भी इस वर्ष कोई सहयोग नहीं मिल रहा है। गांव में अब तक कोई अधिकारी दौरा करने नहीं आये हैं। ग्राम सेवक ही कभी-कभी गांव आकर किसानों को कुछ बताते थे, लेकिन लाॅकडाउन और कोरोना के कारण इस वर्ष कोई गांव नहीं आया है। मैं स्वयं एक लाख रूपए का कर्ज लेकर खेती किया हूं, लेकिन फसल सही नहीं होने से मुझे भी नुकसान उठाना पडे़गा। इस संबंध में क्षेत्र के ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी किरण कुमार भंडारी ने बताया कि बारिश के बाद तेज धूप और उमस होने के चलते ही फसल में भूरा माहो जैसे कीट लग गए हैं। घोठा गांव के साथ ही यह स्थिति पूरे जिले की है। जिसमें लगभग 10 प्रतिशत फसलों को नुकसान हुआ है। इससे बचने के लिए किसानों को दवाईयों के छिड़काव की जानकारी भी दी जा रही है। उन्होंने बताया कि जिन किसानों ने फसल बीमा कराया है उन्हें 30 प्रतिशत से अधिक के नुकसान होने पर उसका लाभ मिलेगा।

वास्तव में छत्तीसगढ़ में मौसम की पल पल बदलती स्थिति 'भारतीय कृषि को मानसून का जुआ' कहने वाले कथन को एक बार फिर चरितार्थ कर रही है। यानि कमजोर मानसून या अति वर्षा दोनों में फसल का उत्पादन प्रभावित होता है और दोनों ही स्थितियों में नुकसान किसान को ही सहन करना पड़ता है। वर्तमान में कृषि कार्य किसानों के लिए किसी चुनौती से कम नही है। लागत का खर्च भी निकाल पाना उनके लिए मुश्किल होता जा रहा है। बावजूद इसके अन्नदाता लगातार मेहनत करके देश का पेट भर रहे हैं। ऐसे में केन्द्र सरकार के साथ राज्य सरकारों को भी उनकी आर्थिक स्थिति को सुधारने की दिशा में बेहतर कार्य करने की आवश्यकता है। (चरखा फीचर)


श्रवण हुर्रा, कांकेर, छत्तीसगढ़


Comments

Popular posts from this blog

विलुप्त होती कला को बचाने की चुनौती

विलुप्त होती कला को बचाने की चुनौती अमरेन्द्र सुमन, चरखा फीचर, दुमका, झारखंड।  बड़े पैमाने पर आर्टिफिशियल (प्लास्टिक, फाइबर व अन्य मिश्रित धातुओं से निर्मित) वस्तुओं का उत्पादन और घर घर तक इनकी पहुँच से जहाँ एक ओर कुम्हार (प्रजापति) समुदाय के पुश्तैनी कारोबार को पिछले कुछ वर्षों से भारी क्षति का सामना करना पड़ा है, वहीं दूसरी ओर चीन निर्मित वस्तुओं का आयात और बड़े पैमाने पर भारत के बाजारों में उनका व्यवसाय भी उनके आर्थिक पिछड़ेपन का एक प्रमुख कारण रहा हैं। गरीबी, अशिक्षा, आर्थिक पिछड़ेपन, सामाजिक तथा राजनीतिक स्तर पर उपेक्षित जीवन, रुग्न मानसिकता, माटी कला बोर्ड की स्थापना का न होना, काम के प्रति अनिच्छा, महंगाई, हाथ निर्मित वस्तुओं की मांग में भारी कमी, उन्नत शिल्प का अभाव और तकनीकी शिक्षा की कमी उन्हें उनके पुश्तैनी पेशे से दूर करता रहा है।  पहले जिस तरह कुम्हार समुदायों में दुर्गापूजा, दीपावली और छठ जैसे व्रतों में मिट्टी से निर्मित वस्तुओं के निर्माण की जो तत्परता और खुशी दिखाई पड़ती थी, अब उसमें आसमान-जमीन का अंतर हो चुका है। सामान बनाने के अनुकूल मिट्टी की कमी, कच्ची मिट्टी की वस्तुओं

शोधकर्ताओं ने विकसित किया वाष्पीकरण मापने का बेहतर यंत्र

नई दिल्ली, 04 दिसंबर (इंडिया साइंस वायर): बेंगलुरु स्थित भारतीय विज्ञान संस्थान के वैज्ञानिकों ने एक नया उपकरण विकसित किया है, जो किसी क्षेत्र में वाष्पीकरण की दर को कुछ ही क्षणों में सरल और सटीक ढंग से माप सकता है। यह नया यंत्र पौधों से वाष्पोत्सर्जन और मिट्टी से वाष्पीकरण की बेहतर माप प्राप्त करने में प्रभावी पाया गया है। वैज्ञानिकों का कहना है कि नया उपकरण वाष्पीकरण मापने के उपलब्ध तरीकों की तुलना में कहीं अधिक सक्षम और सस्ता विकल्प है। भारतीय विज्ञान संस्थान के मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग के वरिष्ठ शोधकर्ता प्रोफेसर जयवंत एच. अरकेरी ने बताया कि "वाष्पीकरण दर मापने के लिए आमतौर पर पात्र वाष्पन मीटर (Pan Evaporimeter) का उपयोग होता है। यह एक बड़े पात्र के आकार में होता है, जो पानी से भरा रहता है। एक दिन के दौरान पात्र में भरे पानी के स्तर में बदलाव उस क्षेत्र में वाष्पीकरण की दर को दर्शाता है। मौजूदा तरीकों की एक खामी यह है कि इससे पूरे दिन और बड़े क्षेत्र (1 वर्ग मीटर) में वाष्पीकरण की दर पता चल पाती है। इसके अलावा, उपकरण लगाने के लिए खुले मैदान की जरूरत होती है। लेकिन, हमने एक

लघु उद्योग बदल सकते है पहाड़ी गांवों का स्वरूप

नैनीताल, उत्तराखंड नरेन्द्र सिंह बिष्ट संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) द्वारा प्रकाशित नवीनतम मानव विकास रिपोर्ट के अनुसार उत्तराखण्ड में बेरोज़गारी दर 2004-2005 में 2.1 प्रतिशत से बढ़कर 2017-2018 में 4.2 प्रतिशत थी जो राज्य सरकार के लिए चिन्ता का विषय है। विशेषज्ञों का भी मानना है कि उच्च बेरोज़गारी दर के पीछे सरकारी व निजी क्षेत्रों में रोज़गार के पर्याप्त अवसर पैदा करने में राज्य की अक्षमता है। रिपोर्ट यह भी बता रही है कि 2004-2005 से 2017-2018 तक युवाओं के बीच बेरोज़गारी की दर 6 प्रतिशत से बढ़कर 13.2 प्रतिशत हो गई। शिक्षित युवाओं (माध्यमिक स्तर से ऊपर) के बीच बेरोज़गारी दर सबसे अधिक 17.4 प्रतिशत है। उत्तराखण्ड बेरोज़गारी मंच के राज्य प्रमुख सचिन थपलियाल ने बताया गया कि राज्य में नौ लाख से अधिक पंजीकृत बेरोजगार युवा हैं। सरकारें बड़े उद्योग एवं रोजगारों को राज्य में लाने में विफल रही है। वही ग्रामीण समुदाय अपने स्तर पर लद्यु उद्योगों के माध्यम से अपनी आजीविका संवर्धन कर रही है। इस ओर सरकार व निजी कंपनियों को कार्य करने की आवश्यकता है। जिससे ग्राम स्तर पर रोज़गार के साथ साथ पहाड़ी