Skip to main content

महिलाओं को बनना होगा खुद का हौसला

 


रमा शर्मा

जयपुर, राजस्थान

भारत जैसा देश जंहा युगों से महिलाओं को देवी का रूप में माना जाता है और उसकी पूजा की जाती है। उसी देश में अब महिलाओं पर अत्याचार, हिंसा और शोषण जैसी अमानवीय घटनाएं आम होती जा रही हैं। पूरे देश में महिलाएं हर जगह, हर समय, हर क्षण, हर परिस्थिति में हिंसा के किसी भी रूप का शिकार हो रही हैं। जैसे जैसे देश आधुनिकता की तरफ बढ़ता जा रहा है, वैसे वैसे महिलाओं पर हिंसा के तरीके और आंकड़ें भी बढ़ते जा रहें हैं। यदि हिंसा के नए रूपों की बात करें तो इनमें अश्लील कृत्य, फूहड़ गाने, किसी महिला की शालीनता को अपमानित करने के इरादे से प्रयोग किये जाने वाले शब्द, अश्लील इशारा, गलत नीयत से पीछा करना, अवैध व्यापार, बदला लेने की नीयत से तेज़ाब डालना, साइबर अपराध और लिव इन रिलेशनशिप के नाम पर शोषण प्रमुख है। जबकि पहले से ही डायन और जादू टोना के नाम पर महिलाओं के साथ शारीरिक शोषण, घरेलू हिंसा, दहेज के नाम पर जलाना, यौन उत्पीड़न और बाल विवाह के नाम पर महिलाओं के साथ होने वाला हिंसा आज भी बदस्तूर जारी है। अंतर इतना ही है कि हिंसा के ये नए रूप शहरों में अधिक हैं जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में आज भी पुराने स्वरूप देखने को मिल जाते हैं।

देश का शायद ही ऐसा कोई इलाका होगा जहां महिलाओं के साथ अन्याय की ख़बरें देखने या पढ़ने को नहीं मिलती हैं। नैशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों के अनुसार साल 2019 में देश भर में 4.05 लाख महिला हिंसा के मामले दर्ज किये गए हैं। इनमें अकेले 30 फीसदी मामले घरेलू हिंसा के हैं जबकि 8 प्रतिशत मामले बलात्कार के दर्ज हुए हैं। यह आंकड़े महिलाओं के प्रति बढ़ते हिंसा के गंभीर रूप को दर्शाते हैं। चौंकाने वाली बात यह है कि महिलाओं के खिलाफ होने वाली हिंसा में राजस्थान सबसे आगे है। जहां 2019 में 18,432 मामले दर्ज किये गए हैं। इसके बाद उत्तर प्रदेश है जहां 18,304 मामले दर्ज किये गए हैं। यह वह आंकड़े हैं जो दर्ज कराये जाते हैं, विशेषज्ञों का मानना है कि दर्ज नहीं कराये जाने वाले मामलों की संख्या इससे कहीं अधिक है।

विश्व मानचित्र पर पर्यटन की दृष्टि से प्रसिद्ध गुलाबी नगरी जयपुर भी महिलाओं के लिए सुरक्षित नही है। 2019 में महिलाओं के खिलाफ हिंसा के 33,189 केस दर्ज हुये जो कि 2018 की तुलना में 46 फीसदी अधिक है। इस दौरान मासूम बालिकाओं के साथ हुई घटनाओं में भी वृद्धि दर्ज की गई है। लाॅक डाउन के दौरान भी महिलाओं के खिलाफ हिंसा की घटनाओं में भी लगातार इज़ाफा देखने को मिला है। राष्ट्रीय महिला आयोग के अनुसार इस दौरान देश भर के साथ साथ जयपुर में भी महिला हिंसा के आंकड़ों में भी वृद्धि हुई है। लाॅक डाउन के दौरान ज़मीनी स्तर पर महिलाओं व बालिकाओं के साथ काम करने के दौरान मेरे सामने भी महिला हिंसा के कुछ केस आये थे। जो राजधानी जयपुर और टोंक ज़िले और उसके आसपास से ही संबंधित थे। जयपुर से 40 किमी दूर चाकसू की रहने वाली अनीता शर्मा (बदला हुआ नाम) बताती हैं कि उनके पति न केवल उनके साथ मारपीट करते हैं बल्कि उनका और उनके बच्चों के भरण पोषण के लिए खर्चा भी नहीं देते हैं। वहीं विनीता के साथ भी कुछ ऐसा ही बर्ताव किया जाता है। उनके अनुसार पति न केवल चरित्र पर लांछन लगाते हैं बल्कि बच्चों के सामने भी मारपीट करते रहते हैं। लेकिन वह बच्चों के भविष्य के लिए इस हिंसा को सहने पर मजबूर हैं। कुछ ऐसी ही परिस्थिती टोंक की कलावती स्वामी और दीपा जैन की भी है। जो पति द्वारा महिला हिंसा का शिकार हुई हैं।

महिलाओं के खिलाफ हिंसा केवल चारदीवारी तक ही सीमित नहीं है। कार्यस्थल से लेकर सड़कों तक महिलाओं को हिंसा का शिकार बनाया जाता है। लाॅक डाउन के दौरान महीने भर से सवाई माधोपुर में फंसी महिला जब जयपुर अपने घर जाने को पैदल निकली तो एक स्कूल में तीन लोगों ने उसके साथ गैंगरेप किया। पुलिस ने इस मामले में तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया है। इस संबंध में राजस्थान के एक गैर-सरकारी महिला संगठन से जुड़ी मनीषा कक्कड़ बताती हैं कि यह हैरानी की बात है कि आखिर प्रशासन ने क्या सोचकर एक महिला को खाली स्कूल में अकेले छोड़ दिया? जगह जगह पुलिस रात दिन लगी रही लेकिन बावजूद इसके बावजूद लाॅकडाउन के दौरान महिलाओं के खिलाफ हिंसा की घटनाओं में वृद्धि देखने को मिली है, जो चिंता का विषय है। इस संबंध में सामाजिक कार्यकर्ता कविता श्रीवास्तव कहती हैं कि अगर साल 2018 की एनसीआरबी की रिपोर्ट देखें तो राजस्थान में यौन हिंसा के साढ़े चार हजार मामले दर्ज किए गए थे। यह सिर्फ वह संख्या है जो पुलिस तक मामले पहुंचते हैं। ऐसे अनगिनत मामले हैं जिसकी रिपोर्ट तक दर्ज नहीं कराई जाती है।

बहरहाल महिलाओं के खिलाफ बढ़ते आंकड़े सभ्य और शिक्षित समाज के लिए बदनुमा दाग़ हैं। इस प्रकार की हिंसा को रोकने के लिए बनाये गए कानून से कहीं अधिक ज़रूरी महिलाओं का सशक्त होना है। किसी भी प्रकार के हिंसा के खिलाफ जबतक महिलाएं स्वयं आवाज़ बुलंद नहीं करेंगी तबतक अपराधियों के हौसले बुलंद होते रहेंगे। इस हिंसा को रोकने में जहां आत्मविश्वास का होना ज़रूरी है वहीं शिक्षा भी एक कारगर हथियार साबित होती है। यही कारण है कि ग्रामीण क्षेत्रों की तुलना में शहरी क्षेत्रों में महिलाएं अपने साथ होने वाली किसी भी प्रकार की हिंसा के खिलाफ केस दर्ज करवाती हैं। यह इस बात का प्रमाण है कि महिलाएं जबतक जागरूक नहीं होंगी उनकी आवाज़ चारदीवारियों में दबाई जाती रहेगी। (चरखा फीचर) 

(लेखिका स्वयं घरेलू हिंसा का सामना कर चुकी हैं)

Comments

Popular posts from this blog

विलुप्त होती कला को बचाने की चुनौती

विलुप्त होती कला को बचाने की चुनौती अमरेन्द्र सुमन, चरखा फीचर, दुमका, झारखंड।  बड़े पैमाने पर आर्टिफिशियल (प्लास्टिक, फाइबर व अन्य मिश्रित धातुओं से निर्मित) वस्तुओं का उत्पादन और घर घर तक इनकी पहुँच से जहाँ एक ओर कुम्हार (प्रजापति) समुदाय के पुश्तैनी कारोबार को पिछले कुछ वर्षों से भारी क्षति का सामना करना पड़ा है, वहीं दूसरी ओर चीन निर्मित वस्तुओं का आयात और बड़े पैमाने पर भारत के बाजारों में उनका व्यवसाय भी उनके आर्थिक पिछड़ेपन का एक प्रमुख कारण रहा हैं। गरीबी, अशिक्षा, आर्थिक पिछड़ेपन, सामाजिक तथा राजनीतिक स्तर पर उपेक्षित जीवन, रुग्न मानसिकता, माटी कला बोर्ड की स्थापना का न होना, काम के प्रति अनिच्छा, महंगाई, हाथ निर्मित वस्तुओं की मांग में भारी कमी, उन्नत शिल्प का अभाव और तकनीकी शिक्षा की कमी उन्हें उनके पुश्तैनी पेशे से दूर करता रहा है।  पहले जिस तरह कुम्हार समुदायों में दुर्गापूजा, दीपावली और छठ जैसे व्रतों में मिट्टी से निर्मित वस्तुओं के निर्माण की जो तत्परता और खुशी दिखाई पड़ती थी, अब उसमें आसमान-जमीन का अंतर हो चुका है। सामान बनाने के अनुकूल मिट्टी की कमी, कच्ची मिट्टी की वस्तुओं

शोधकर्ताओं ने विकसित किया वाष्पीकरण मापने का बेहतर यंत्र

नई दिल्ली, 04 दिसंबर (इंडिया साइंस वायर): बेंगलुरु स्थित भारतीय विज्ञान संस्थान के वैज्ञानिकों ने एक नया उपकरण विकसित किया है, जो किसी क्षेत्र में वाष्पीकरण की दर को कुछ ही क्षणों में सरल और सटीक ढंग से माप सकता है। यह नया यंत्र पौधों से वाष्पोत्सर्जन और मिट्टी से वाष्पीकरण की बेहतर माप प्राप्त करने में प्रभावी पाया गया है। वैज्ञानिकों का कहना है कि नया उपकरण वाष्पीकरण मापने के उपलब्ध तरीकों की तुलना में कहीं अधिक सक्षम और सस्ता विकल्प है। भारतीय विज्ञान संस्थान के मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग के वरिष्ठ शोधकर्ता प्रोफेसर जयवंत एच. अरकेरी ने बताया कि "वाष्पीकरण दर मापने के लिए आमतौर पर पात्र वाष्पन मीटर (Pan Evaporimeter) का उपयोग होता है। यह एक बड़े पात्र के आकार में होता है, जो पानी से भरा रहता है। एक दिन के दौरान पात्र में भरे पानी के स्तर में बदलाव उस क्षेत्र में वाष्पीकरण की दर को दर्शाता है। मौजूदा तरीकों की एक खामी यह है कि इससे पूरे दिन और बड़े क्षेत्र (1 वर्ग मीटर) में वाष्पीकरण की दर पता चल पाती है। इसके अलावा, उपकरण लगाने के लिए खुले मैदान की जरूरत होती है। लेकिन, हमने एक

लघु उद्योग बदल सकते है पहाड़ी गांवों का स्वरूप

नैनीताल, उत्तराखंड नरेन्द्र सिंह बिष्ट संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) द्वारा प्रकाशित नवीनतम मानव विकास रिपोर्ट के अनुसार उत्तराखण्ड में बेरोज़गारी दर 2004-2005 में 2.1 प्रतिशत से बढ़कर 2017-2018 में 4.2 प्रतिशत थी जो राज्य सरकार के लिए चिन्ता का विषय है। विशेषज्ञों का भी मानना है कि उच्च बेरोज़गारी दर के पीछे सरकारी व निजी क्षेत्रों में रोज़गार के पर्याप्त अवसर पैदा करने में राज्य की अक्षमता है। रिपोर्ट यह भी बता रही है कि 2004-2005 से 2017-2018 तक युवाओं के बीच बेरोज़गारी की दर 6 प्रतिशत से बढ़कर 13.2 प्रतिशत हो गई। शिक्षित युवाओं (माध्यमिक स्तर से ऊपर) के बीच बेरोज़गारी दर सबसे अधिक 17.4 प्रतिशत है। उत्तराखण्ड बेरोज़गारी मंच के राज्य प्रमुख सचिन थपलियाल ने बताया गया कि राज्य में नौ लाख से अधिक पंजीकृत बेरोजगार युवा हैं। सरकारें बड़े उद्योग एवं रोजगारों को राज्य में लाने में विफल रही है। वही ग्रामीण समुदाय अपने स्तर पर लद्यु उद्योगों के माध्यम से अपनी आजीविका संवर्धन कर रही है। इस ओर सरकार व निजी कंपनियों को कार्य करने की आवश्यकता है। जिससे ग्राम स्तर पर रोज़गार के साथ साथ पहाड़ी